इश्क़ लिखता दर्द लिखता मर्ज़ लिखता शाइरी में By Ashutosh Pandey

ग़ज़ल

इश्क़ लिखता दर्द लिखता मर्ज़ लिखता शाइरी में

लिखता हूँ अब ज़िन्दगी का कच्चा चिट्ठा शाइरी में

 

बिछड़ा हूँ तो क्या हुआ दीदार उनका रोज़ करता

ऊला में भी सानी में भी उनसे मिलता शाइरी में

 

सोच कितने कीमती थे पल जो तेरे साथ गुज़रे

कतरा-कतरा बिक गया पर अब है कर्ज़ा शाइरी में

 

वस्ल का तो किस्सा भी अब मोजिज़ा सा हो गया है

वस्ल को अब सोचकर ही हिज्र करता शाइरी में

 

चाँद भी शर्माता है औ रात भी बेचैन दिखती जब कभी मैं

ज़िक्र करता इक हँसी का शाइरी में

 

वो इबादत वो मुहब्बत वो ही नफरत रहती ‘आबिद’

ये भी कहता वो भी कहता काफ़ी मसला शाइरी में

-Ashutosh Pandey
@p.a.n.d.e.y_j.i

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *